ऊर्जा क्षमता क्या है? | ऊर्जा क्षमता और ऊर्जा सरक्षण में अंतर

ऊर्जा क्षमता और ऊर्जा सरक्षण में अंतर:- आप सभी लोगों ने किसी भी प्रोग्राम, या TV पर ऊर्जा क्षमता क्या होती है और वह ऊर्जा संरक्षण से कैसे अलग है के बारे में जरूर सुना होगा। और जब भी कोई हमसे बिजली बचाओ के बारे में पूछता है तो हम यही बताते हैं कि किस प्रकार बिजली का उपयोग कम करें, बिजली को कैसे बचाये। उससे कैसे संरक्षित करें। लेकिन यदि आप सच मे ऊर्जा संरक्षण करना चाहते हैं तो उसका सबसे आसान तरीका यही है कि आप बिजली का सीमित मात्रा में इस्तेमाल करें।

जैसे जैसे हमारे जीवन मे विकास बढ़ता जा रहा है। वैसे वैसे हमारे दैनिक जीवन में इस्तेमाल होंने वाली वाली चीजों की और अधिक आवश्यकता बढ़ रही है। इसलिए हमें ऊर्जा दक्षता और ऊर्जा संरक्षण दोनों का ही सही से उपयोग करना होगा। क्या आप जाते हैं कि ऊर्जा संरक्षण और ऊर्जा दक्षता में क्या अंतर है। यदि नही चलिए हम आपके लिए नीचे बताते है कि ऊर्जा दक्षता और ऊर्जा संरक्षण दोनों में क्या अंतर है।

ऊर्जा संरक्षण क्या है- What is energy conservation

ऊर्जा क्षमता और ऊर्जा सरक्षण में अंतर

जब हम बिजली या ऊर्जा का जरूरत पड़ने पर बिना मतलब ऊर्जा का इस्तेमाल नही करते तो इससे ही ऊर्जा संरक्षण कहते है। जैसे कि यदि हम किसी भी बस्तु का इस्तेमाल अपनी जरूरत के के हिसाब से कम करते है तो इससे ही ऊर्जा को संरक्षित करना कहते हैं। जैसे कि हमे कही पास जाना हो तो हम मोटर साइकिल के स्थान पर साइकल का यूज़ करते हैं, या फिर हम अपने घर मे रोशनी करने के लिए बिजली के स्थान पर मोमबत्ती का use करते है तो हम एक तरह से ऊर्जा संरक्षण ही कर रहे हैं।

ऊर्जा संरक्षण हम किसी भी तरह से कर सकते है जैसे हम अपने घर मे बिजली से चलने वाली चीजों का आनावश्यक रूप से प्रयोग करने से खुद को रोकते हैं तो तब हम हम ऊर्जा को संरक्षित ही करते हैं। ऊर्जा संरक्षण करने के लिए हम सभी को साथ मे मिल कर प्रयास करने होंगे इसके लिए न केवल हमे अपनी आदतों में भी सुधार लाना होगा। और हमे यह भी सुनिश्चित करना होगा कि हम ऊर्जा का जरूरत पड़ने पर ही इस्तेमाल करे। जिससे हम अधिक से अधिक ऊर्जा संरक्षण कर पाएंगे।

ऊर्जा दक्षता क्या है- What is energy efficiency

यह ऊर्जा संरक्षण का बिल्कुल उल्टा होता है इसमें हम किसी भी कार्य को करने के लिए ऊर्जा का पूरा प्रयोग करते है। जैसे कि हम कम ईंधन से चलने वाली एक कार बाजार से खरीदते है तो इसका अर्थ है कि हम एक हाई ऊर्जा क्षमता वाली कार ख़रीद रहे हैं या हम किसी 2 या 3 star rated वाले फ्रिज की जगह 5 star rating वाला फ्रिज खरीद लेते है। तो भी आप एक हाई ऊर्जा व्यय करने वाले उपकरणों का इस्तेमाल कर रहे है। यानी जब आप हाई ऊर्जा व्यय करने वाले उपकरणों का इस्तेमाल करते है तो ऊर्जा संरक्षण की जगह ऊर्जा का क्षमता का का प्रवाहव उस व्यक्ति को अधिक पैसे खर्ज करने पड़ते है।

ऊर्जा क्षमता और ऊर्जा सरक्षण में अंतर

यदि आप किसी अच्छे उपकरणों को इस्तेमाल करते है तो वह और उपकरणों की तुलना में अधिक महेंगे जरूर होते है लेकिन वह बिजली की काफी बचत करते है, यदि आप ऊर्जा क्षमता को बढ़ाना चाहते है तो आपके लिए किसी भी भौतिक प्रयास करने की आवश्यकता नही है बस आपको कुशल उपकरणों को खरीदने की जरूरत होगी उसके बाद आप ऊर्जा क्षमता बढ़ा सकते है। और आने वाले अधिक बिजली बिल से भी छुटकारा पा सकते है।

यानि कि ऊर्जा संरक्षण और ऊर्जा संरक्षण दोनों का एक ही उद्देश्य है कि कम खर्ज पर ऊर्जा की बचत करना। यदि आप ऊर्जा संरक्षण करते है तो आपके घर म बिजली बिल कम आएगा और यदि आप महंगे कुशल उपकरणों का use करते है तो भी आप बिजली बचाकर पैसे बचा सकते है मतलब यह है कि आप ऊर्जा संरक्षण और ऊर्जा क्षमता के द्वारा पैसे के साथ साथ पैसे की भी बचत कर सकते है। और यदि एक ही उपकरण में यह दोनों एक साथ मिल जाये तो आपके आप अपने पैसे की दो गुनी कर सकते हैं।

निष्कर्ष

बिजली बचत के लिए आपको बिजली से जुड़े एक – एक उपकरण के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। ताकि आसानी से आप बिजली की बचत कर सके। बिजली बचत को ध्यान में रखते हुए ही आज हमने आपको ऊर्जा क्षमता क्या है? | ऊर्जा क्षमता और ऊर्जा सरक्षण में अंतर के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद करती हूँ कि आपको जानकारी उपयोगी रही होंगी।

Leave a Comment